पोटाश खाद के फायदे | potaash khaad ke phaayade

 पोटाश खाद के फायदे

 किसान भाइयों आज हम बात करेंगे पोटाश के फायदे और नुकसान के बारे में कि हमारी फसलों के अंदर पोटाश के क्या फायदे हैं। क्या नुकसान है पोटाश को हम अपनी फसलों के अंदर एक बार डालना चाहिए या फिर दो बार डालना चाहिए या फिर बिल्कुल ही नहीं डालना चाहिए। यदि हम एक भी तत्व इसे ना दें तो हमारी जो फसल होती है यह पिट जाती है और इसका जो एवरेज इसका जो उत्पादन होता है वह भी किसान भाइयों काफी ज्यादा कम निकल करके आता है तो यह जो हमारे तीन मुख्य पोषक तत्व होते हैं नाइट्रोजन, फास्फोरस और प्रोटास इनकी अहम भूमिका हमारी फसलों के अंदर किसान भाइयों देखने को आपको मिल जाएगी। वैसे तो किसानों को लगभग टोटल हमारे 17 पोषक तत्व होते हैं, जिनकी आवश्यकता लगभग सभी फसलों के अंदर होती है।

पोटाश खाद के फायदे


और सभी फसलों को इन तत्वों को डालने के बाद ही आप अच्छा उत्पादन इनसे निकाल पाते हैं। इसके साथ साथ किसान भाइयों में आपको बताना चाहूंगा। यदि पोटाश के बारे में बात की जाए तो पोटाश एक ऐसा मुख्य पोषक तत्व यदि इसकी कमी हमारी फसलों के अंदर आ जाती है तो यह कम से कम 15 से लेके 20% तक हमारे उत्पादन को हमारे पैदावार को कम कर सकती है तो गलती से भी अपनी फसल के अंदर जो है पोटाश की कमी को ना होने में पोटाश की कमी आते ही आपकी फसल जो है हरी भरी नहीं रहेंगी। इसे देखने में आपको सुंदरता नजर नहीं आएगी। इसके ऊपर से चमक किसान भाइयों चली जाती है और उत्पादन में तो कम से कम 15% की कमी देखने को मिली जाती है।


इसके साथ साथ यदि आप पोटाश की पूर्ति कर देते हैं तो किसान भाइयों आपकी जो फसलें होगी उसके दाने का बड़ा अच्छे से होगा। दाना बिल्कुल ठोस रहेगा, आपकी फसल के ऊपर चमक बनी रहेंगी और किसानों आपके जो पौधे होंगे ये भी अच्छी तरीके से ग्रोथ कर पाएंगे। तो ये एक अच्छा मुख्य पोषक तत्व है। इसकी कमी ना होने दे, इसका उपयोग किसान भाइयों आप जो है अपनी फसलों के अंदर दो बार कर सकते हैं। एक तो किसानों को जब आप अपनी किसी भी फसल की बुवाई कर रहे होते हैं तो बुवाई करते समय आप इसका उपयोग कर सकते हैं। कोई भी साइड इफेक्ट कोई भी दिक्कत नहीं आएगी क्योंकि जब किसान भाई एन पी के की सहायता से फसलों की बुवाई करते हैं तो हमारा जो पोटाश होता है वो एन पी के की मदद के साथ ही उसके अंदर मिल जाता है और दूसरा जो किसान भाइयों हमें पोटाश की मात्रा देनी चाहिए वो किसान वही जब हमारी फसलों के ऊपर फल और फूल बनने शुरू हो जाते हैं, उस समय पर दूसरी बार हमें पोटाश का उपयोग अपनी फसलों के अंदर करना चाहिए।

पोटाश खाद के फायदे


सही और सटीक समय रहता है और दो बार यदि आप अपनी फसल के अंदर पोटाश का उपयोग कर लेते हैं तो हमारी फसल के जो फल होंगे, जो फूल होंगे ये काफी अच्छी मात्रा में बनके आएँगे, बिल्कुल ठोस रहेंगे। इनका आकार बिल्कुल भी नहीं बिगड़ेगा और किसान भाइयों इनका जो वजन आएगा वो वजन भी और खेतों के मुकाबले ज्यादा अच्छा आपको देखने को मिल जाएगा। तो आप अपने खेत केंद्र पोटाश का उपयोग दो बार किसान भाइयों कर सकते हैं। अब इसे आपको किस किस रूप में आप दे सकते हैं, उसके बारे में बात कर लेते हैं। किसानों को यदि आप पोटाश का उपयोग करना चाहते हैं तो एन पी के 0050 का स्प्रे यदि आप करेंगे तो इससे भी पोटाश की मात्रा पूरी हो जाती हैं और आप अपनी फसलों की अंदर पोटाश की पूर्ति कर सकते हैं। इसकी मात्रा की यदि बात की जाए तो एक किलोग्राम प्रति एकर के हिसाब से आपको एन पी के 0050 लेना है। वो लगभग 180 लीटर पानी के अंदर मिक्स करके आप इसका स्प्रे अपनी फसल के ऊपर कर सकते हैं। बहुत ही शानदार निकाल करके देगा। यदि किसान भाइयों आप जो है स्प्रे नहीं करना चाहते हैं तो आप एम ओह पी का उपयोग कर सकते हैं, जो होती है इसकी मात्रा की बात की जाए तो 25 किलोग्राम प्रति एक के हिसाब से आप इसे ले सकते हैं और इसका उपयोग अपनी फसलों के अंदर कर सकते हैं।


बहुत ही शानदार रिसाल्ट ये भी आपको निकाल करके देगी दूसरा किसान एस ओह पी सल्फेट ऑफ़ इसका उपयोग भी किसान में आप कर सकते हैं। इसके अंदर भी पोटाश की मात्रा दी हुई होती है तो तीन तरीके से आप मतलब हमारी पूर्ति कर सकते हैं और अपनी फसलों से एक सही और अच्छा उत्पादन किसान भाइयों आप निकाल सकते हैं। इसकी कमी आते ही आपके फसलों की जो है, दुर्दशा होनी शुरू हो जाती है, वो फसलों का उत्पादन और पैदावार तो किसान में बहुत ही कम हो जाता है।

भैंस की बच्चेदानी में इन्फेक्शन के लक्षण

FAQ:-

पोटाश का प्रयोग कब करना चाहिए?

सबसे पहले बुवाई करते समय

पोटाश की कमी से क्या होता है?

पत्तियों की किनारा कटा-फटा एवं उनका अग्र भाग भूरा हो जाता है। पत्तियाँ आकार में छोटी हो जाती है और उनकी वृद्धि रुक जाती है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने