धान में कोराजन का प्रयोग | Use of Corazon in Paddy

 धान में कोराजन का प्रयोग

हम आपको जानकारी देंगे। हमारी जो धान की फसल है, इसमें हमें कोराजन  प्रयोग कब करना चाहिए? जी किसान भाइयों आपने सही सुना।  हमें धान की फसल में कब, कैसे और कितनी मात्रा लेके इसका प्रयोग करना है आप लोगों ने किसान भाइयों अभी तक बहुत सुना होगा कि कोराजन इनका प्रयोग इस स्पेशल गन्ने पर किया जाता है। किसान भाइयों बहुत सारे किसान भाई कोरा जिनका प्रयोग धान पर भी करते हैं तो हम आपको जानकारी देंगे की जो हमारे किसान भाई धान पे जिनका प्रयोग करना चाहते हैं

धान में कोराजन का प्रयोग


धान की फसल में उनको कब करना है, कितनी मात्रा लेनी क्या सही समय पूरी जानकारी आपको देंगे? 

किसान भाइयों कोराजन है उसका प्रयोग हमें कैसे कब करना है, कितनी मात्रा लेनी है, धान में किस प्रकार से करना है किसान भाइयों आप कोराजन उसी प्रकार से प्रयोग कर सकते हैं जैसे आप गन्ने की फसल में करते हैं, जिनको आप जब भी प्रयोग में करते हैं, गन्ने में यहाँ पे देखा होगा। कोराजन हमेशा जड़ में प्रयोग किया जाता है। अगर हम यहाँ आपको बता दें कि आप एक एक जड़ धान की प्रयोग करें तो आप नहीं कर सकते हैं क्योंकि ये बहुत ही कठिन काम है।

ये भी पढ़े:-टमाटर का फल बढ़ाने की दवा

 तो गन्ने की जड़ में कैसे गन्ने की जो फसल है वो जल्दी बढ़ जाती है तो उसमें आप जड़ में कर सकते हैं इसमें प्रयोग करने का। किसान भाइयों एक ही तरीका है आपकी जो फसल है 30-35 दिन की हो जाती है जब तब कोराजन प्रयोग किया जाता है 30-35 दिन की फसल से लेके आप 60 दिन की यानी रुपए से 30 दिन 35 दिन की फसल हो जाए तब से लेके 60 दिन तक आप इसका प्रयोग कर सकते हैं। कोराजन प्रयोग किसान भाइयों आपको करना है, जैसे आप खेत में अपने दाल का ग्रोथ बहुत ज्यादा नहीं हुई है। ग्रोथ हो रही है निकल रहा है तो आप जब भी कोराजन किसान प्रयोग करते है तो 30 35 दिन के दान की फसल बहुत ज्यादा बड़ी नहीं हो जाती है। 

अगर आप हम बता दे बड़ी टंकी या स्प्रे टंकी जो ट्रैक्टर वाली आती है उससे अगर स्प्रे कर रहे है प्रेशर टंकी से या आप हाथ वाली जो 15 लीटर की टंकी आती है उससे कर रहा है स्प्रे तो किसान को ये जब आप पौधे पे करेंगे तो वो आटोमेटिक जड़ तक जो है स्प्रे आपकी पहुँच जाती है। धान की फसल में जड़ तक दवा जो है पहुँच जाती है तो आप इस प्रकार से इतने दिन की फसल पे आप ये सही समय जो है इस पर आप प्रयोग कर सकते है। हम अब इसकी बात करें की आपको उसकी मात्रा कितनी किसान भाइयों इसकी मात्रा आपको 80 एम एल प्रति एकड़ की आपको कोराजन की लेनी है। 200 से 220 लीटर तकरीबन आपको पानी ले लेना है। तकरीबन 200 या 220 लीटर पानी लेके उसमें आप 80 एम एल आपको कोराजन डाल के प्रति एकड़ के हिसाब से आपको इसकी स्प्रे कर देनी है। इसमें अगर आपके खेत में तना छेदक या पेट नाम का कीट भी अगर लगा तो उसमें बेहद ही अच्छा ये काम करेगी और ऐसे कीटों को मतलब खत्म कर देती है। जो कीट लग चुका जो नुकसान किया वो नुकसान तो भरपाई नहीं होगी पर ये है की आगे चलके ये कीट नहीं आएगा क्योंकि जब धान वालिया निकलने वाली होती है, उस समय इन कीटों का प्रकोप बहुत तेज़ी से बढ़ जाता है। तो अगर इस समय आप स्प्रे कर देंगे तो इसका जो प्रकोप है, इसको आप रोक सकते है और कोराजन में प्रयोग नहीं करते तो धान वालिया निकलते है। समय भी आप कोराजन प्रयोग कर सकते है, अगर इस समय कर देते है तो बहुत सारे कीटों को ये रोक लेगा तो किसान भाइयों उम्मीद करते है। 

Post a Comment

और नया पुराने

Sections

Smartwatchs